home remedies for stomach pain in Hindi

 पेट खराब होना या बदहजमी होना आजकल बहुत आम बात हो गई है! हर कोई किसी न किसी दिन इससे पीड़ित होता है। इसके अलावा, परेशान पेट से ज्यादा असहज कुछ भी नहीं है। पेट की परेशानी का यह अहसास अब बढ़ा हुआ शारीरिक गतिविधि की कमी के कारण हो सकता है। कोविड -19 महामारी ने हमारी शारीरिक गतिविधि सहित हमारे जीवन को अचानक विराम दे दिया है। काम की नई संस्कृति ने किसी न किसी तरह हमारी दिनचर्या को अस्त-व्यस्त कर दिया। यह एक कारण है कि हम में से अधिकांश लोग रोजाना पेट खराब होने की समस्या का सामना करते हैं।


चिकित्सकीय शब्दों में, एक परेशान पेट को अपच भी कहा जाता है जो आपके ऊपरी पेट में परेशानी का वर्णन करता है। पेट खराब होना कोई विकार नहीं है बल्कि पाचन विकार के लक्षणों का एक समूह है जो आपको असहज करता है। यह पाचन तंत्र के किसी अन्य रोग का लक्षण भी हो सकता है।


pet dard ke Karan

  • ज्यादा खाना या जल्दी खाना
  • पेट में दर्द
  • शराब की खपत
  • फास्ट फूड, मसालेदार खाना खाना
  • धूम्रपान
  • दवा से प्रेरित अपच जैसे एंटीबायोटिक्स, दर्द निवारक, आदि।
  • पैथोलॉजिकल कारण - पेप्टिक अल्सर, गैस्ट्राइटिस, हाइपरएसिडिटी आदि।
  • चिंता

pet kharab hone ke karan

भोजन के दौरान और बाद में पेट का भरा होना

पेट के ऊपरी हिस्से में जलन और डकार

पेट में फूला हुआ महसूस होना

मतली और उल्टी


पेट खराब का इलाज

अंतर्निहित कारण के अनुसार विभिन्न प्रकार के उपचार होते हैं। जीवनशैली में बदलाव मसालेदार भोजन से बचने या शराब के उपयोग को समाप्त करके अपच को कम करने में मदद कर सकता है। यदि अपच बनी रहती है, तो डॉक्टर आपको कुछ दवाएं लिख सकते हैं।


pet dard ke gharelu nuskhe

1: पीने का पानी

ऐसा कहा जाता है कि पेट की ख़राबी के लिए पानी हर समस्या का अंतिम समाधान है। शरीर को आवश्यक पोषक तत्वों को अवशोषित करने के लिए पानी की आवश्यकता होती है और आपके शरीर से विषाक्त पदार्थ को खत्म करने में मदद करता है। निर्जलित होने से उल्टी और दस्त के कारण पेट खराब हो सकता है। आपके पेट में एसिड की मात्रा बढ़ने से पेट में जलन हो सकती है।


खूब पानी पीने से आपके पाचन तंत्र से एसिड खत्म हो सकता है जो आपको सुखदायक प्रभाव देता है।


2: नींबू पानी

अपच में नींबू पानी एक बेहतरीन विकल्प है। जब भी हमें पेट में तकलीफ महसूस होती है तो हम हमेशा नींबू पानी का चुनाव करते हैं। नींबू का क्षारीय प्रभाव पेट में अतिरिक्त अम्लता को शांत करने में मदद करता है।


3: बेकिंग सोडा और लेमन ड्रिंक

यह अपच के लिए एक आसान और सबसे अच्छा विकल्प है। आप पानी में एक चुटकी बेकिंग सोडा के साथ नींबू का रस मिला सकते हैं जो पाचन संबंधी शिकायतों को दूर करने में मदद कर सकता है। पेय पेट में कार्बोनिक एसिड पैदा करता है, जिससे अपच और गैस में कमी आती है। नींबू में मौजूद एसिड आपके पेट में एसिड के स्राव को भी कम करता है।


4: मिंट

पुदीने की पत्तियों में मेन्थॉल होता है जो आपके पेट को शांत करने और अपच की समस्या को कम करने में मदद करता है। यह आंतों में मांसपेशियों की ऐंठन को कम करने और दर्द से राहत दिलाने में भी मदद करता है। पुदीना एशियाई देशों में अपच का पारंपरिक इलाज है।


पुदीने की पत्तियों का सेवन कच्चा या पका कर किया जा सकता है। वे इलायची के साथ उबाल कर चाय बना सकते हैं या अन्य पेय पदार्थों के साथ मिला सकते हैं।


5: अदरक

अदरक का उपयोग प्राचीन काल से सर्दी, खांसी, मतली, उल्टी और दर्द के लिए किया जाता है। इसमें जिंजरोल और शोगोल नामक रसायन होते हैं। ये रसायन पेट के संकुचन को तेज करने में मदद कर सकते हैं जिससे पेट दर्द कम हो जाता है।


यदि आप अदरक की तेज गंध को संभाल सकते हैं तो आप चीकू बनाने के लिए ताजा अदरक की जड़ को छील और काट सकते हैं। इसके अलावा, आप उन्हें पेय या भोजन में जोड़ सकते हैं।


6: दालचीनी

दालचीनी की छड़ें विभिन्न एंटीऑक्सिडेंट जैसे कपूर, सिनामाल्डिहाइड, लिनालूल और यूजेनॉल से भरपूर होती हैं। यह आपके पेट को भोजन को आसानी से पचाने में मदद करता है। यह सूजन, मतली और पेट की परिपूर्णता जैसे लक्षणों का इलाज करने में मदद करता है।


जिन लोगों का पेट खराब होता है, वे अपने भोजन में 1 चम्मच दालचीनी पाउडर या एक छोटी सी छड़ी मिला सकते हैं।


7: जीरा

जब आप तुरंत परिणाम चाहते हैं तो जीरा पेट की ख़राबी के लिए सबसे अच्छे समाधानों में से एक है। यह अति अम्लता, पेट की गैसीय दूरी और दर्द को कम करने में मदद करता है।


एक चम्मच जीरा, कुछ सूखा नारियल और दो लहसुन की कलियां लें। इन्हें मिलाकर एक बार में सेवन करें। यह पेट में असहजता की भावना को तुरंत कम करने में मदद करेगा।


8: केला

केले में विभिन्न विटामिन, फोलेट और पोटेशियम होते हैं। यह आपके पेट में एसिड को कम करने में मदद कर सकता है और आपको हाइपरएसिडिटी से राहत दिला सकता है। केले ढीले मल में बल्क मिलाकर भी मदद कर सकते हैं, जिससे दस्त को कम किया जा सकता है।


हालांकि हम घर पर ही पेट की ख़राबी के विभिन्न लक्षणों का प्रबंधन कर सकते हैं। अंतर्निहित कारणों और तीव्रता की जांच करना भी आवश्यक है। ये कारक परिभाषित करेंगे कि आपको घरेलू उपचार की आवश्यकता है या डॉक्टर से परामर्श करें। हल्के लक्षणों के लिए, अपने आहार में बहुत सारे ताजे फल और सब्जियां शामिल करना और शराब का सेवन कम करना लगभग निश्चित रूप से आपको स्वास्थ्य की राह पर ले जाएगा।

Post a Comment

0 Comments